Posts

हम सब मूलत: हिन्दू ही हैं: श्री मुहम्मद करीम छागला

Image
हम सब मूलत: हिन्दू ही हैं : श्री मुहम्मद करीम छागला Mahommedali Currim Chagla was an Indian jurist, diplomat, and Cabinet Minister who served as Chief Justice of the Bombay High Court from 1948 to 1958. He wrote that all Indians are Hindus.

Treasure of Dharmik E-Books (FREE)

For the benifit of readers and spread availability of great work of wisdom a treasure trove of literature is open free to readers and seekers. यह ई पुस्तकालय है, जिसमें दर्जनों अमूल्य ग्रंथों के PDF सहेजे गए हैं, ताकि यह अधिक से अधिक लोगों के काम आ सकें, धर्म और राष्ट्र संबंधी विषय पर PDF में अमूल्य पुस्तकें इन लिंक में संग्रहित हैं, आप विषय देखकर लिंक खोलें तो बहुत सी पुस्तकें मिलेंगी, सभी पुस्तकें आप निशुल्क download कर सकते हैं, इन लिंक्स में सैकड़ों किताबें हैं, जो कई पीढ़ियों की मेहनत का फल हैं, इस हिंद महासागर से मोती चुन लें... Swami Dayananda - स्वामी दयानंद :
https://drive.google.com/folder/d/0B1giLrdkKjfRZnUxOEpPSVBHVzQ/edit Aadi Shankaracharya - आद्य शंकराचार्य :https://drive.google.com/open?id=0B1giLrdkKjfRallkZ0VIWnRPVjA Sri Aurobindo - श्री अरविंदो :
https://drive.google.com/open?id=0B1giLrdkKjfRSWktaVFPa2tSa2s Swami Vivekanand - स्वामी विवेकानन्द :
https://drive.google.com/open?id=0B1giLrdkKjfRMFAtTi1yUFAzdW8 Swami Ramteerth - स्वामी रामतीर्थ :
https://drive.google.com/open…

E Book Aahuti - Communist Atrocities in Kerala

Killings of innocent nationalist people by Communist (left) from Kerala is profiled in this e-book. Hundreds of RSS, BJP and ABVP workers (men, women of all ages) are murdered by communists of Kerala. This hardly is reported in media. Here is an e-book on those sacrifices.

Aahuti - The Untold Stories of Sacrifice in Kerala by Sanatan Sarvada on Scribd

Sewa International - Tamilnadu Floods Relief Activities

Image
Sewa International has been able to raise $90K as of now for Tamilnadu flood relief activities. Sewa volunteers in USA are coordinating with local volunteers in Tamilnadu for Rescue and Relief activities, promoting the cause on social media and contacting various organizations for partnering with Sewa International.

You can also help in this relief efforts by donating at https://www.sewausa.org/donate
Here is a ground report on relief operation undertaken by Sewa volunteers:Sewa International - Tamilnadu Floods Relief Activities Report
A TV report on Sewa International volunteers raising funds for Tamilnadu flood relief activities in NJ outside Indian grocery stores.

Sewa activities are also reported in this portal  http://www.azwishesh.com/top-stories/48915-sewa-international-hindu-faith-based-nonprofit-organization-extends-help-in-chennai-floods.html

Photos of the places where Maharana Pratap rebuilt his Army against Akbar.

भारत रत्न महामना मदनमोहन मालवीय

25 दिसम्बर/जन्म-दिवसहिन्दुत्व के आराधक "भारत रत्न" महामना मदनमोहन मालवीयकाशी हिन्दू विश्वविद्यालय का नाम आते ही हिन्दुत्व के आराधक पंडित मदनमोहन मालवीय जी की तेजस्वी मूर्ति आँखों के सम्मुख आ जाती है। 25 दिसम्बर, 1861 को इनका जन्म हुआ था। इनके पिता पंडित ब्रजनाथ कथा, प्रवचन और पूजाकर्म से ही अपने परिवार का पालन करते थे। प्राथमिक शिक्षा पूर्णकर मालवीय जी ने संस्कृत तथा अंग्रेजी पढ़ी। निर्धनता के कारण इनकी माताजी ने अपने कंगन गिरवी रखकर इन्हें पढ़ाया। इन्हें यह बात बहुत कष्ट देती थी कि मुसलमान और ईसाई विद्यार्थी तो अपने धर्म के बारे में खूब जानते हैं; पर हिन्दू इस दिशा में कोरे रहते हैं।मालवीय जी संस्कृत में एम.ए. करना चाहते थे; पर आर्थिक विपन्नता के कारण उन्हें अध्यापन करना पड़ा। उ.प्र. में कालाकांकर रियासत के नरेश इनसे बहुत प्रभावित थे। वे ‘हिन्दुस्थान’ नामक समाचार पत्र निकालते थे। उन्होंने मालवीय जी को बुलाकर इसका सम्पादक बना दिया। मालवीय जी इस शर्त पर तैयार हुए कि राजा साहब कभी शराब पीकर उनसे बात नहीं करेंगे। मालवीय जी के सम्पादन में पत्र की सारे भारत में ख्याति हो गयी। पर …

Intellectual Warrior: Sitaram Goel

3 दिसम्बर/पुण्य-तिथि                     बौद्धिक योद्धा सीताराम गोयल विदेशी और हिंसा पर आधारित वामपंथी विचारधारा को बौद्धिक धरातल पर चुनौती देने वालों में श्री सीताराम गोयल का नाम प्रमुख है। यद्यपि पहले वे स्वयं कम्यूनिस्ट ही थे; पर उसकी असलियत समझने के बाद उन्होंने उसके विरुद्ध झंडा उठा लिया। इसके साथ ही वे अपनी लेखनी से इस्लाम और ईसाई मिशनरियों के देशघातक षड्यन्त्रों के विरुद्ध भी देश को जाग्रत करते रहे। 16 अक्टूबर, 1921 में जन्मे श्री सीताराम जी मूलतः हरियाणा के निवासी थे। उनकी जीवन-यात्रा नास्तिकता, आर्य समाजी, गांधीवादी और वामंपथी से प्रखर और प्रबुद्ध हिन्दू तक पहुंची। इसमें रामस्वरूप जी की मित्रता ने निर्णायक भूमिका निभाई। इस बारे में उन्होंने एक पुस्तक ‘मैं हिन्दू क्यों बना ?’ भी लिखी। वामपंथ के खोखलेपन को उजागर करने के लिए सीताराम जी ने उसके गढ़ कोलकाता में ‘सोसायटी फाॅर दि डिफेन्स आॅफ फ्रीडम इन एशिया’ नामक मंच तथा ‘प्राची प्रकाशन’ की स्थापना की। 1954 में कोलकाता के पुस्तक मेले में उन्होंने अपने वामपंथ विरोधी प्रकाशनों की एक दुकान लगाई। उसके बैनर पर लिखा था - लाल खटमल मार…